Jagannath rath yatra 2024 | जगन्नाथ रथ यात्रा 2024

Jagannath rath yatra 2024 | जगन्नाथ रथ यात्रा 2024

Jagannath rath yatra 2024 | जगन्नाथ रथ यात्रा 2024 जगन्नाथ रथ यात्रा (Jagannath rath yatra) उड़ीसा के साथ-साथ पूरे देश में सबसे प्रतीक्षित और बहुचर्चित त्योहारों में से एक है। यह भगवान जगन्नाथ यानी भगवान श्री कृष्ण, उनकी बहन देवी सुभद्रा और उनके बड़े भाई भगवान बलभद्र को समर्पित है। इसे आमतौर पर गुंडिचा यात्रा,…

अन्नपूर्णा चालीसा | Annapurna Chalisa

अन्नपूर्णा चालीसा | Annapurna Chalisa

॥ माँ अन्नपूर्णा चालीसा ॥॥ दोहा ॥विश्वेश्वर पदपदम की रज निज शीश लगाय ।अन्नपूर्णे, तव सुयश बरनौं कवि मतिलाय ।॥ चौपाई ॥नित्य आनंद करिणी माता,वर अरु अभय भाव प्रख्याता ॥ जय ! सौंदर्य सिंधु जग जननी,अखिल पाप हर भव-भय-हरनी ॥ श्वेत बदन पर श्वेत बसन पुनि,संतन तुव पद सेवत ऋषिमुनि ॥काशी पुराधीश्वरी माता,माहेश्वरी सकल जग…

नवग्रह चालीसा | Navgrah Chalisa

नवग्रह चालीसा | Navgrah Chalisa

॥ दोहा ॥श्री गणपति गुरुपद कमल,प्रेम सहित सिरनाय ।नवग्रह चालीसा कहत,शारद होत सहाय ॥जय जय रवि शशि सोम बुध,जय गुरु भृगु शनि राज।जयति राहु अरु केतु ग्रह,करहुं अनुग्रह आज ॥ ॥ चौपाई ॥॥ श्री सूर्य स्तुति ॥प्रथमहि रवि कहं नावौं माथा,करहुं कृपा जनि जानि अनाथा ।हे आदित्य दिवाकर भानू,मैं मति मन्द महा अज्ञानू ।अब निज…

विष्णु चालीसा | Vishnu Chalisa

विष्णु चालीसा | Vishnu Chalisa

॥ दोहा॥विष्णु सुनिए विनय सेवक की चितलाय ।कीरत कुछ वर्णन करूं दीजै ज्ञान बताय । ॥ चौपाई ॥नमो विष्णु भगवान खरारी ।कष्ट नशावन अखिल बिहारी ॥ प्रबल जगत में शक्ति तुम्हारी ।त्रिभुवन फैल रही उजियारी ॥ सुन्दर रूप मनोहर सूरत ।सरल स्वभाव मोहनी मूरत ॥ तन पर पीतांबर अति सोहत ।बैजन्ती माला मन मोहत ॥4॥ शंख…

भैरव चालीसा | Bhairav Chalisa

भैरव चालीसा | Bhairav Chalisa

॥ दोहा ॥श्री गणपति गुरु गौरी पदप्रेम सहित धरि माथ ।चालीसा वंदन करोश्री शिव भैरवनाथ ॥श्री भैरव संकट हरणमंगल करण कृपाल ।श्याम वरण विकराल वपुलोचन लाल विशाल ॥ ॥ चौपाई ॥जय जय श्री काली के लाला ।जयति जयति काशी-कुतवाला ॥ जयति बटुक-भैरव भय हारी ।जयति काल-भैरव बलकारी ॥ जयति नाथ-भैरव विख्याता ।जयति सर्व-भैरव सुखदाता ॥…

पार्वती चालीसा | Parvati Chalisa

पार्वती चालीसा | Parvati Chalisa

॥ दोहा ॥जय गिरी तनये दक्षजेशम्भू प्रिये गुणखानि ।गणपति जननी पार्वतीअम्बे! शक्ति! भवानि ॥॥ चौपाई ॥ब्रह्मा भेद न तुम्हरो पावे ।पंच बदन नित तुमको ध्यावे ॥ षड्मुख कहि न सकत यश तेरो ।सहसबदन श्रम करत घनेरो ॥ तेऊ पार न पावत माता ।स्थित रक्षा लय हिय सजाता ॥ अधर प्रवाल सदृश अरुणारे ।अति कमनीय नयन…

श्री झूलेलाल चालीसा | Shri Jhulelal Chalisa

श्री झूलेलाल चालीसा | Shri Jhulelal Chalisa

॥ दोहा ॥जय जय जल देवता,जय ज्योति स्वरूप ।अमर उडेरो लाल जय,झुलेलाल अनूप ॥॥ चौपाई ॥रतनलाल रतनाणी नंदन ।जयति देवकी सुत जग वंदन ॥ दरियाशाह वरुण अवतारी ।जय जय लाल साईं सुखकारी ॥ जय जय होय धर्म की भीरा ।जिन्दा पीर हरे जन पीरा ॥ संवत दस सौ सात मंझरा ।चैत्र शुक्ल द्वितिया भगऊ वारा ॥4॥…

श्री कृष्ण चालीसा | Shri Krishna Chalisa

श्री कृष्ण चालीसा | Shri Krishna Chalisa

॥ दोहा॥बंशी शोभित कर मधुर,नील जलद तन श्याम ।अरुण अधर जनु बिम्बफल,नयन कमल अभिराम ॥पूर्ण इन्द्र, अरविन्द मुख,पीताम्बर शुभ साज ।जय मनमोहन मदन छवि,कृष्णचन्द्र महाराज ॥ ॥ चौपाई ॥जय यदुनंदन जय जगवंदन ।जय वसुदेव देवकी नन्दन ॥ जय यशुदा सुत नन्द दुलारे ।जय प्रभु भक्तन के दृग तारे ॥ जय नटनागर, नाग नथइया |कृष्ण कन्हइया…

विश्वकर्मा चालीसा | Vishwakarma Chalisa

विश्वकर्मा चालीसा | Vishwakarma Chalisa

॥ दोहा ॥श्री विश्वकर्म प्रभु वन्दऊं,चरणकमल धरिध्यान ।श्री, शुभ, बल अरु शिल्पगुण,दीजै दया निधान ॥॥ चौपाई ॥जय श्री विश्वकर्म भगवाना ।जय विश्वेश्वर कृपा निधाना ॥ शिल्पाचार्य परम उपकारी ।भुवना-पुत्र नाम छविकारी ॥ अष्टमबसु प्रभास-सुत नागर ।शिल्पज्ञान जग कियउ उजागर ॥ अद्‍भुत सकल सृष्टि के कर्ता ।सत्य ज्ञान श्रुति जग हित धर्ता ॥ ४ ॥ अतुल…

कुबेर चालीसा | Kuber Chalisa

कुबेर चालीसा | Kuber Chalisa

॥ दोहा ॥जैसे अटल हिमालय,और जैसे अडिग सुमेर ।ऐसे ही स्वर्ग द्वार पे,अविचल खडे कुबेर ॥विघ्न हरण मंगल करण,सुनो शरणागत की टेर ।भक्त हेतु वितरण करो,धन माया के ढेर ॥ ॥ चौपाई ॥जै जै जै श्री कुबेर भण्डारी ।धन माया के तुम अधिकारी ॥ तप तेज पुंज निर्भय भय हारी ।पवन वेग सम सम तनु…